कविता- बेटी

डॉ तेज स्वरूप भारद्वाज

रचनाकार- डॉ तेज स्वरूप भारद्वाज

विधा- कविता

बेटी है स्वर्ग धरा का ,
मानव का है नन्दनवन ।
ेटी अंधविश्वास का अन्त है ,
बेटी है नव परिवर्तन ।
बेटी आधुनिकता का आगाज है ,
बेटी माँ का है दर्पण ।
बेटी से तर्पित श्राद्धित,
तर जाते हैं सब पित्रगण ।
बेटी है सर्वश्व जहाँ का ,
सुरतरुओं में है चन्दन ।
बेटी है अभिलाषा हमारी ,
बेटी ईश का है वन्दन ।
बेटी है वरदान प्रभू का ,
हर बेटी का अभिनन्दन ।
बेटी है परिवार की इवादत ,
बेटी माँ – बाप की धड़कन ।
कृपलानी , कर्णम , चावला ,
गीता आदि का अभिनन्दन ।
जब बेटी का शोषण होता ,
तब काँप जाता है मन ।
जब कोई बेटी रहे अशिक्षित ,
तब उसको लगता बन्धन ।
बेटी कोई न रहे अशिक्षित ,
न समझें हम पराया धन ।
बेटी मनुष्य का अस्तित्व है ,
बेटी सबका है जीवन ।
निवेदन :- यदि प्रस्तुत कविता आपको पसंद आई हो तो साहित्यपीडिया पर मुझे vote करें ।
डाँ तेज स्वरूप भारद्वाज

Sponsored
Views 41
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
डॉ तेज स्वरूप भारद्वाज
Posts 36
Total Views 2.7k
Assistant professor -:Shanti Niketan (B.Ed.,M.Ed.,BTC) College ,Tehra,Agra मैं बिशेषकर हास्य , व्यंग्य ,हास्य-व्यंग्य,आध्यात्म ,समसामयिक चुनौती भरी समस्याओं आदि पर कवितायें , गीत , गजल, दोहे लघु -कथा , कहानियाँ आदि लिखता हूँ ।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia