कविता क्या होती है…?

Rajdeep Singh Inda

रचनाकार- Rajdeep Singh Inda

विधा- कविता

कविता क्या होती है…..?
इसे नहीँ पता,उसे नहीँ पता
मुझे नहीँ पता………..!
कहते हैँ कवि गण-
कविता होती है मर्मशील विचारोँ का शब्द पुँज,
कविता होती है साहित्य की पायल,
कविता होती है शब्दोँ का हार।
कहते हैँ शब्द शिल्पी-
कविता होती है मन की बात,
कविता होती है रस की धार,
कविता होती है शब्दोँ के उपवन की कुसुम कतार।
कहते हैँ साहित्यकार-
कविता होती है कवि की लेखनी की हँसी,
कविता होती है समाज का आह्वान,
कविता होती है पाठक का सुकुन।
मैँ कहता हुँ-
कविता होती है बेजुबानोँ की बोली,
कविता होती है अंधोँ की दृष्टी,
कविता होती है साहित्य की झनकार,
कविता मे समाया है सारा संसार ॥
-राजदीप सिँह इन्दा

Views 11
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
Rajdeep Singh Inda
Posts 2
Total Views 19

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia