कविता का महत्व

राजीव शर्मा 'ब्रजरत्न'

रचनाकार- राजीव शर्मा 'ब्रजरत्न'

विधा- कविता

जनम लिया तो अम्मा ने कविता से सहलाया था,
जब जब रोया, तब तब उसने कविता से बहलाया था,
कविता की ही दादी नानी ने लोरी एक सुनाई थी,
आजादी से पहले कविता राष्ट्रगान बन आई थी।

अरे गांधी से अन्ना तक कविताओं ने ही तो क्रांति जगाई थी,
कविता सी ही बाबा तुलसी ने लिखी एक चौपाई थी।

राष्ट्रगान और वंदे मातरम् कविता से,जिनकी रक्षा का बीड़ा हम उठाते हैं,
जिसकी खातिर सीमा पर होली रोज मनाते हैं,
सुन कर जिन कविताओं को वो सीने पर गोली खाते हैं,
वैसी ही कविता लिखता हूँ, मत खुद को रोको,
profile में जाकर मेरी ,like share का button ठोको।

Sponsored
Views 277
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
राजीव शर्मा 'ब्रजरत्न'
Posts 4
Total Views 365
न मंजिल पता है, न डगर हमें मालूम है, रुकना कहाँ है, मुझे नहीं मालूम है, धक्का दे रहा है ये जमाना मुझे, कहाँ धकेलना चाहता है ,ये मुझे नहीं मालूम है।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia