कविता : आजकल हम बेवजह मुस्कुराने लगे हैं

Anju Gupta

रचनाकार- Anju Gupta

विधा- कविता

जिनको कभी थे हम नज़रंदाज़ करते,
धड़कन बन दिल में वो समाने लगे हैं !
आजकल बेवजह हम मुस्कुराने लगे हैं !!

बदलने लगा है कुछ अंदाज़ अपना भी,
चुप रहते थे पर अब गुनगुनाने लगे हैं !
आजकल बेवजह हम मुस्कुराने लगे हैं !!

जिन आँखों में कभी था, अश्कों का समन्दर,
उन आँखों में सपने सजाने लगे हैं !
आजकल बेवजह हम मुस्कुराने लगे हैं !!

सजाए हैं जिनके ख्यालों में मेले,
ख्वाबों में उनके भी आने लगे हैं !
आजकल बेवजह हम मुस्कुराने लगे हैं !!

अंजु गुप्ता

Sponsored
Views 39
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Anju Gupta
Posts 19
Total Views 151
Am a management professional with 20 years of rich experience. Working as a softskill Trainer Writing is my passion.

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia