कविता।तुमको इक दिन आना है ।

राम केश मिश्र

रचनाकार- राम केश मिश्र

विधा- कविता

गीत।तुमको इक दिन आना है ।।

विश्वासों की पृष्टिभूमि पर
प्रेम का महल बनाया हूँ
भावों की नक्कासी करके
दुनियां को झुठलाया हूँ
फिर भी ख़ाली
ख़ाली सा यह
नीरस ताना बाना है ।
तुमको इक दिन आना है ।1।।

आश्वाशन की राह चला मैं
मिली जीत न मुझको हार
अवसर पाकर करे बुराई
बेबस हृदय पर प्रहार
सह लूँगा हर
घाव हृदय पर
फिर भी मंजिल पाना है ।
तुमको इक दिन आना है ।।2।।

मन मन्दिर में बनी सीढ़ियां
सुखमय यादों तक जाती
बाट जोहती प्यासी आँखे
रह रह जब तब थक जाती
पलको से
ढरते है आँसू
कुछ दिन और बहाना है ।
तुमको इक दिन आना है ।।3।।

जिस दिन निकले चाँद गगन में
मेरी हँसी उड़ाता है
उगता सूरज आग बबूला
होकर मुझे जलाता है
पथ्थर तो मैं नही
परन्तु
पथ्थर ही बन जाना है ।
तुमको इक दिन पाना है ।। 4।।

अंधकार की नदी मोहिनी
उफनाती ले जल की धार
मैं तटबन्धों से प्रयासरत
तुम तो बसते हो उस पार
डरा नही
पर रुका रहूँगा
हठ की नाव चलाना है ।।
तुमको इक दिन आना है । 5।।

मेघ कपासी ठहर गये है
नयनो के भर आने से
मुस्काती है इंद्रधनुष भी
वर्षा के रुक जाने से
सन्नाटों के
कर्कश तानों
का भी दर्द उठाना है ।
तुमको इक दिन आना है ।। 6।।

ये मत सोचो रहे फ़ासला
तो हो जाऊंगा भयभीत
है अटूट अनवरत निरन्तर
तेरे मेरे मन की प्रीत
प्रतिबिम्बों के
एक सहारे
सचमुच दिल हर्षाना है ।।
तुमको इक दिन आना है ।।7।।

इस समाज के थोथे बन्धन
झूठी परम्पराओं से
बधा हुआ यह गात अचेतन
तुम हृदय तक भावों से
भाव शून्य हो
शिखर बिंदु को
पाकर गले लगाना है ।
तुमको इक दिन आना है ।।8।।

धुँधली है काया तेरी
पर तुमसे है हर कोना
मेरे सपनो की दुनियां में
सजता रूप सलोना
दो इक दिन की
दूरी है फिर
तो तुममे मिल जाना है ।।
तुमको इक दिन आना है।।9।।

हे ईश्वर नित आशाओं का
उर में हो निर्माण
ताकि जीवन के अनुभव का
मिले मुझे प्रमाण
कृपा नेह से
अवनत सर को
चरणों में सदा झुकना है ।।
तुमको इक दिन आना है ।।10।।

©राम केश मिश्र

Blog- hindikavitakavyadrum.blogspot.in/

बेहतरीन साहित्यिक पुस्तकें सिर्फ आपके लिए- यहाँ क्लिक करें

Views 50
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
राम केश मिश्र
Posts 53
Total Views 784
राम केश मिश्र मैं भदैयां ,सुल्तानपुर ,उत्तर प्रदेश से हूँ । मैं ग़ज़ल लेखन के साथ साथ कविता , नवगीत, दोहे हाइकू, पिरामिड ,कुण्डलिया,आदि लिखता रहा हूं । FB-- https ://m.facebook.com/mishraramkesh मेरा ब्लॉग-gajalsahil@blogspot.com Email-ramkeshmishra@gmail.com Mob--9125562266 धन्यवाद ।।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia