कल की किशोरी आज की नारी

दिनेश एल०

रचनाकार- दिनेश एल० "जैहिंद"

विधा- कविता

कल की किशोरी
आज की नारी

मैं हूँ बच्ची, कल की किशोरी,
भविष्य की हूँ मैं समस्त नारी ||
मैं लक्ष्मी, मैं उमा, मैं हूँ शारदा,
जानो ये दुनिया मैंने ही सँवारी ||

सतरंगे लक्ष्य लेके मैंने जग को,
इंद्रधनुषी सप्त रंग से सजाए हैं ||
दिनकर की तेज़ लेके मैंने जग,
को जगमग-जगमग चमकाए हैं ||

मुझमें है गर चाँद-सी शीतलता,
तो देने को है अँधेरे में उजाला ||
मुझ में है गर गौमाँ-सी ममता,
तो देने को है घोर शर्द में ज्वाला ||

अनसूइया,गार्गी, सीता,सावित्री
की आत्मा मुझ में ही बसती है ||
लक्ष्मी बाई-सरोजनी-इंदरा गाँधी
की छाया मुझ पर ही उगती है ||

मुझमें देखो हैं कस्तुरबा गाँधी,
देखो मुझमें बैठी भक्त शारदा ||
मैं ही हूँ स्वर साम्राज्ञी लता मैया,
मुझमें है छुपी सुनीता चावला ||

मैं वीरांगना, मैं विदुषी, मैं सर्वज्ञा,
मैं सबला हूँ मेरी ओजस्वी कहानी ||
हाथों में है कटार, आँखों में अंगारे,
दिल में पाषाण, चपलता तूफ़ानी ||

मैं धरती, मैं सृष्टि, मैं हूँ प्रकृति,
मैं चाहूँ बालक को सज्ञान बना दूँ ||
मैं जननी, मैं धरणी, मैं निर्मात्री,
धरूँ लक्ष्य पुरूष को महान बना दूँ ||

मैं पुत्री, मैं भार्या, मैं ही हूँ माता,
चौतरफ़ा जग में है मेरा जलवा ||
मेरे ही इर्द-गिर्द सारा जग घूमता,
मेरी ही तूती चलती यश की हवा ||

नारी शक्ति, नारी देवी नारी नर-
नारी व जग की होती महतारी ||
प्रेम, करूणा, सम्मान, सेवा की
होती है जग में सच्ची अधिकारी ||

_____________________
दिनेश एल० "जैहिंद"
24. 01. 2017

Views 3
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
दिनेश एल०
Posts 84
Total Views 808
मैं (दिनेश एल० "जैहिंद") ग्राम- जैथर, डाक - मशरक, जिला- छपरा (बिहार) का निवासी हूँ | मेरी शिक्षा-दीक्षा पश्चिम बंगाल में हुई है | विद्यार्थी-जीवन से ही साहित्य में रूचि होने के कारण आगे चलकर साहित्य-लेखन काे अपने जीवन का अंग बना लिया और निरंतर कुछ न कुछ लिखते रहने की एक आदत-सी बन गई | फिर इस तरह से लेखन का एक लम्बा कारवाँ गुजर चुका है | लगभग १० वर्षों तक बतौर गीतकार फिल्मों मे भी संघर्ष कर चुका,,

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia