कलाम ए शूफियाना

umesh mehra

रचनाकार- umesh mehra

विधा- गज़ल/गीतिका

हर शै में मेरे पीर का नूर नज़र आता है।
जर्रे जर्रे में बस मेरा हुजूर नज़र आता है।।
मेरी आशिकी तुम्हीं से वंदगी भी तुम्हीं से ।
आँखो में बस तेरा ही सुरूर नज़र आता है ।।
हर सांस है तुम्हीं से मेरी रूह में बसे हो।
नज़र नज़र में बस मेरा करतार नजर आता है ।।
हस्ती है क्या हमारी जो करम न हो तुम्हारा।
मेरी मुफलिसी में तू ही दातार नज़र आता है ।।
तूफान में घिरी है मेरी नाव जिंदगी की ।
आसरा है तुम्हारा तू ही पतवार नज़र आता है ।।

Sponsored
Views 24
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
umesh mehra
Posts 13
Total Views 229

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia