“कर्ज चुकाया जा नहीं सकता,हरदेव तेरे एहसानों का।।” ——————–

Dr Purnima Rai

रचनाकार- Dr Purnima Rai

विधा- गज़ल/गीतिका

नई दिल्ली में चल रहे
69वें निरंकारी संत समागम( 19-20-21नवंबर)में "सत्गुरु बाबा हरदेव सिंह जी महाराज" को समर्पित कवि दरबार में शीर्षक

"कर्ज चुकाया जा नहीं सकता,हरदेव तेरे एहसानों का।।" ———————मेरी रचना———–

हँसमुख चेहरा,रूप नूरानी,प्यार भरी तेरी मुस्कानों का।
कर्ज चुकाया जा नहीं सकता,हरदेव तेरे एहसानों का।।———–

बिन तेरे अब मेरे सत्गुरु ,मेरे इस जीवन का मोल नहीं;
बिना रूह के प्राण अधूरे,तुम संग सजे मन अरमानों का।
कर्ज चुकाया जा नहीं सकता,हरदेव तेरे एहसानों का।।———-

रोम-रोम पुलकित हर जन का ,प्रेम स्नेह की धन- दौलत बख्शी;
नहीं जगत में कोई अपना ,बिन तेरे हम जैसे बेगानों का।।
कर्ज चुकाया जा नहीं सकता,हरदेव तेरे एहसानों का।।——————

माटी की काया थी हमरी ,कंचन पारस तुम थे सत्गुरु;
भवसागर से पार उतारा,अनजान सफर हम अनजानों का ।।
कर्ज चुकाया जा नहीं सकता,हरदेव तेरे एहसानों का।।——————–

शरण "पूर्णिमा" सत्गुरु तेरी,अपने बचपन में ही आई है;
अपार अनंत असीम कृपा और आँगन सजा वरदानों का ।।
कर्ज चुकाया जा नहीं सकता,हरदेव तेरे एहसानों का।।——————–

…डॉ.पूर्णिमा राय,अमृतसर(पंजाब)
20/11/16

Sponsored
Views 143
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Dr Purnima Rai
Posts 4
Total Views 1.1k
मैं मूलत:एक शिक्षिका हूँ।लेखिका ,संपादिका ,समीक्षक भूमिका निभाकर साहित्य सृजन की ओर अग्रसर हूँ मेरी स्पर्धा किसी से नहीं , स्वत:अपने आपसे है।स्वयं को बेहतर से बेहतरीन बनाना मेरे साहित्यिक जीवन का लक्ष्य है।.. शब्द अथाह सागर हैं और भाव उठती हुई लहरें.. ..डॉ.पूर्णिमा राय ,अमृतसर(पंजाब)

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia