करो मत वार नयनों से

बबीता अग्रवाल #कँवल

रचनाकार- बबीता अग्रवाल #कँवल

विधा- गज़ल/गीतिका

■■■■■■■★ ग़ज़ल ★■■■■■■■

करो मत वार नयनों से कि दिल उल्फ़त का मारा है
ये पहले भी तुम्हारा था ये दिल अब भी तुम्हारा है

मेरी आँखों का है तू नूर , तू सबका दुलारा है
तेरी हर बात प्यारी है तेरा अंदाज़ प्यारा है

तुम्हारी याद में खोई तुम्हीं को ढूंढती हूँ मैं
भटकती हूँ ख्यालों में हुआ दिल बेसहारा है

सजाकर आज बिटिया को निहारा देर तक हमने
लगा धरती पे ज्यों हमने करिश्में को उतारा है

तेरी यादों के बन्धन में बंधी हर वक़्त मैं खुश हूँ
तुझी में खो गई हूँ मैं तुम्हारा ही सहारा है

नज़र का व्याकरण पढ़ लो नज़र की भी जुबां समझो
नज़र से ही कँवल ने कर दिया तुमको इशारा है

बबीता अग्रवाल कँवल
20/12/2016

Views 47
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
बबीता अग्रवाल #कँवल
Posts 51
Total Views 3.5k
जन्मस्थान - सिक्किम फिलहाल - सिलीगुड़ी ( पश्चिम बंगाल ) दैनिक पत्रिका, और सांझा काव्य पत्रिका में रचनायें छपती रहती हैं। (तालीम तो हासिल नहीं है पर जो भी लिखती हूँ, दिल से लिखती हूँ)

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia