‘करीब आ जाओ’

Rajesh Singh

रचनाकार- Rajesh Singh

विधा- गज़ल/गीतिका

गर जानना है मुझको, करीब आ जाओ.
पहचानना है मुझको, करीब आ जाओ,
सिर्फ दुआ सलाम से फितरत नहीं जानी,
दिल्लगी की है तो फिर हाले दिल सुना जाओ,
किनारे बैठ कर दरिया की गहराई नहीं मिलती
जो सागर से मुहब्बत है,तो सागर ही नजर आओ,
हर सांस तेरे नाम हो, तेरी याद में हर सांस हो,
बसकर धडकनों में तुम मेरे दिल में समा जाओ,
मंदिर मस्जिद से तो इबादत का भरम होता है,
फना हो जाओ मुझमें तुम ही तुम नजर आओ

Views 12
Sponsored
Author
Rajesh Singh
Posts 1
Total Views 12
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia