कभी जागीर लगती है……………. “मनोज कुमार”

मनोज कुमार

रचनाकार- मनोज कुमार

विधा- मुक्तक

कभी शोला, कभी शबनम, कभी तू आग लगती है
कभी जन्नत, परी कोई, कभी आफ़ताब लगती है
कभी मेरी है तू लैला, कभी तू हीर है शीरी
कभी दिल की तड़प मेरी, कभी जागीर लगती है

“मनोज कुमार”

Sponsored
Views 35
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
मनोज कुमार
Posts 41
Total Views 891
नाम - मनोज कुमार , जन्म स्थान - बुलंदशहर , उत्तर प्रदेश (भारत) , शिक्षा - एम. एस. सी. ( गणित ) , शिक्षा शास्त्र , EMAIL - MPVERMA85@YAHOO.IN https://manojlyricist.blogspot.in/

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia