** कब तलक **

भूरचन्द जयपाल

रचनाकार- भूरचन्द जयपाल

विधा- गज़ल/गीतिका

💐 ****२४.५.२०१६*****🎂
**** *****
स्वारथ के वशीभूत होकर आज मानव
मौत का ताण्डव सहेगा कब तलक
******
मानव मानव से झगड़ेगा कब तलक
मौत का ताण्डव रचेगा कब तलक
********
मन बिलबिला कर रो उठा है तेरी खातिर
आ भी जा अब दूर रहोगे कब तलक
*******
मावस अंधेरी घेर लेती है निशा को
कौन जाने जिंदगी है कब तलक
********
रोकती है मुझको उसकी सदाए आज भी
सुनी ना, तो फिर मिलेंगे कब तलक
******* ***** *****
प्यार का घरौंदा है कच्ची मिट्टी का घड़ा
जमाने की ठोकरों से बचायेगा कब तलक
**** *****
मैं तुम्हारी साजिसों को जानता हूं
मुझसे छुपाओगे कब तलक
**** ***** ****
रात को सूरज ना निकलेगा मगर
चांद उजियारा फैलायेगा कब तलक
******* ****
देश का शासन तुम्हारे हाथ है आखिर
गरीबों को रुलाओगे कब तलक
**** **** *****
रोक लो आंखो के आंसू आर्तजन के
अंतर्मन से आखिर बहेंगे कब तलक
***** **** ****
सांवली सूरत भ गयी आज मेरे मन को
रोक पाओगे आखिर कब तलक
***** **** *****
देखता है क्यों आंखे फाड़कर फलक पर
चांद उरत आएगा जमीं पर कब तलक
****** ****
चित्र-विचित्र सी सारियों में नारियां है
महफ़िल में पहचानोगे कब तलक
******** ******* ******
ऐ खुदा तेरी खुदाई को देखता हूं मगर
आयेगा आसमां से उतर कर कब तलक
**** *** ****
मजबूर कर दे प्यार तो
प्यार चलेगा कब तलक
**** ****
मुफ़लिसी फकापरस्ती छोड़कर
गैर के साये में खायेगा कब तलक
****** **** *****
देख ले तक़दीर तेरी सांवली है सोच ले
गैरों के घर दीपक जलाएगा कब तलक
***** **** *** *****
मत जा मायाजाल में फंसकर भंवर में
डूबती नैया बचाकर लाएगा कब तलक
***** **** *****
जान जोखिम में डालकर कौन
किसको बचायेगा कब तलक
***** ******
कब तलक दिल में महसूस किया करें
अब दूरियां प्यार में सहेगा कब तलक
***** *** **** *****
भटकती आत्माऐं आती है अक्सर रात में
तसव्वुर में डराएंगी आखिर कब तलक
****** ***** 🎂 *******
👍मधुप बैरागी

Sponsored
Views 9
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
भूरचन्द जयपाल
Posts 383
Total Views 9.6k
मैं भूरचन्द जयपाल सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर (राजस्थान) अपने उपनाम - मधुप बैरागी के नाम से विभिन्न विधाओं में स्वरुचि अनुसार लेखन करता हूं, जैसे - गीत,कविता ,ग़ज़ल,मुक्तक ,भजन,आलेख,स्वच्छन्द या छंदमुक्त रचना आदि में विशेष रूचि, हिंदी, राजस्थानी एवं उर्दू मिश्रित हिन्दी तथा अन्य भाषा के शब्द संयोग से सृजित हिंदी रचनाएं 9928752150

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia