कफ़न

Kokila Agarwal

रचनाकार- Kokila Agarwal

विधा- कविता

मुस्कुरा
जब जब बढ़ाया
इक कदम
तूफ़ान नज़रों
में समाया
दम- ब- दम
घेरकर सारी
दिशाओं से मुझे
वक्त ने
नज़रे चुराईं
फिर दमन
मेरा पिंजर
आज भी
चुपचाप है
देर कितनी
कब ये
ओढ़ेगा कफ़न……

Sponsored
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Kokila Agarwal
Posts 50
Total Views 440
House wife, M. A , B. Ed., Fond of Reading & Writing

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia