कन्या भ्रूण हत्या

Aashukavi neeraj awasthi

रचनाकार- Aashukavi neeraj awasthi

विधा- गीत

पापा पापा पापा पापा सुन हमारि बतिया
पापा हमका न मारो हम तोहारि बिटिया

हम तो अजन्मो कन्या देखी नही दुनियाँ
दुनियां म आवै देव उठाय लेहु कनियाँ
पापा कसम से खिलौना न तो मांगब गुड़िया। 
पापा हमका न मारो हम तोहारि बिटिया

दुसरी कसम तुम पर बोझ नाइ बनिबै
लरिकन ते ज्यादा पापाकमाई खवईबै
घर के काम करब फरिका ओ बन्धइबै  टटिया।
पापा हमका न मारो हम तोहारि बिटिया

बैंक की किताब चश्मा लाठिव तुम्हारी
आई बुढ़ापा पापा होई लाचारी
तुमका दवा पानी दयाबै जब पकरिहो खटिया।
पापा हमका न मारो हम तोहारि बिटिया

माना दहेज क्यार दानव बड़ा है
बहु बेटियन की मौत बनिकै खड़ा है
हो मैका ससुरा संभरिबै दिन दुपहरी रतिया।
पापा हमका न मारो हम तोहारि बिटिया
आशु कवि नीरज
अवस्थी
खमरिया पंडित खीरी
मो0 9919256950

Views 35
Sponsored
Author
Aashukavi neeraj awasthi
Posts 12
Total Views 65
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia