कन्या भ्रूण हत्या

Aashukavi neeraj awasthi

रचनाकार- Aashukavi neeraj awasthi

विधा- गीत

पापा पापा पापा पापा सुन हमारि बतिया
पापा हमका न मारो हम तोहारि बिटिया

हम तो अजन्मो कन्या देखी नही दुनियाँ
दुनियां म आवै देव उठाय लेहु कनियाँ
पापा कसम से खिलौना न तो मांगब गुड़िया। 
पापा हमका न मारो हम तोहारि बिटिया

दुसरी कसम तुम पर बोझ नाइ बनिबै
लरिकन ते ज्यादा पापाकमाई खवईबै
घर के काम करब फरिका ओ बन्धइबै  टटिया।
पापा हमका न मारो हम तोहारि बिटिया

बैंक की किताब चश्मा लाठिव तुम्हारी
आई बुढ़ापा पापा होई लाचारी
तुमका दवा पानी दयाबै जब पकरिहो खटिया।
पापा हमका न मारो हम तोहारि बिटिया

माना दहेज क्यार दानव बड़ा है
बहु बेटियन की मौत बनिकै खड़ा है
हो मैका ससुरा संभरिबै दिन दुपहरी रतिया।
पापा हमका न मारो हम तोहारि बिटिया
आशु कवि नीरज
अवस्थी
खमरिया पंडित खीरी
मो0 9919256950

Sponsored
Views 42
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Aashukavi neeraj awasthi
Posts 12
Total Views 89

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia