कन्या भ्रूण संरक्षण

avadhoot rathore

रचनाकार- avadhoot rathore

विधा- कविता

कविता
क्यों बिटिया तुम्हें रास आती नहीं ?
क्यों ख़ुशियाँ तुम्हें यार भाती नहीं ?
है बिटिया घरों में चहकती बुलबुल,
क्यों बुलबुल तुम्हें यार भाती नहीं ?
है पुरुष का अहम बिटिया से बड़ा,
क्या बिटिया तभी लाड़ पाती नहीं ?
है होना पुरुष का नारी का करम,
न होता पुरुष अगर वो लाती नहीं।
पड़े रहते सभी घर शमशान बन,
दिलों जाँ से अगर वो सजाती नहीं।
,,,अवधूत,,,

Views 36
Sponsored
Author
avadhoot rathore
Posts 31
Total Views 203
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia