कन्या दान

विजय कुमार अग्रवाल

रचनाकार- विजय कुमार अग्रवाल

विधा- कविता

पढ़ा लिखा कर बड़ा किया है ,मैं इस पर अभिमान करूँ ।
नहीँ मानता हूँ कोई अंतर , इसीलिये सम्मान करूँ ॥
वस्तु नहीँ है मेरी बेटी, क्यों इसका अपमान करूँ ।
मेरे घर की है यह लक्ष्मी फ़िर क्यों कन्या दान करूँ ॥
जनम लिया बेटी ने जिस दिन ,पत्र नौकरी आया उस दिन ।
कैसे कहूँ पराया धन है ,क्यों यह बात स्वीकार करूँ ॥
दूसरी बेटी घर जब आई ,दुनिया भर की खुशियाँ लाई ।
क्यों मैं कहूँ पराया धन ये ,क्यों मैं इनका दान करूँ ॥
नियम बनाया है समाज ने, बेटी के बारे में जो यह ।
क्यों मैं इसको सच्चा मानू क्यों इसको स्वीकार करूँ ॥
जो घर माने बहू को लक्ष्मी, उसका इन्तेज़ार करूँ ।
जो बेटी है गरूर मेरा , कभी न उसका दान करूँ ॥

विजय बिज़नोरी

Sponsored
Views 88
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
विजय कुमार अग्रवाल
Posts 33
Total Views 1.5k
मै पश्चिमी उत्तर प्रदेश के बिजनौर शहर का निवासी हूँ ।अौर आजकल भारतीय खेल प्राधिकरण के पश्चिमी केन्द्र गांधीनगर में कार्यरत हूँ ।पढ़ना मेरा शौक है और अब लिखना एक प्रयास है ।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia