. . . और मेरी इक गज़ल

Pradipkumar Sackheray

रचनाकार- Pradipkumar Sackheray

विधा- गज़ल/गीतिका

उस बेख़बर को अब ये ख़बर नहीं हैं ।
इस बेसबर को ज़िने में सबर नहीं हैं ।

झुठ के कितने ही परदे गिराये हमने ,
परदें बोले , तेरा नाम अकबर नहीं हैं ।

ज़िंदगी को बेहिसाब , बेपनाह प्यार किया ;
मौत भी बोली , क्यां तु मेरा दिलबर नहीं हैं ?

कोई उनसे पुँछे की , अश्क कहाँ बहायेगी ?
मेरा कफ़न , ज़नाज़ा , या तो कबर नहीं हैं ।

साथ का वादा , हाथ देने की कसम ख़ाई थी ;
अब कहती , हाथ हैं मेरा , रबर नहीं हैं ।

ख़ुश तो होती थी , तारे तोड़ लाने की बात से ;
अब समझाती हैं की , तेरा अंबर नहीं हैं ।

बरसों ख़ड़े रहें उनके प्रेमी कतार में ,
वक्त ने ज़ताया , अब तेरा नंबर नहीं हैं ।

हमारी कलम अब , कैसें – क्यां कहेगी उसे ?
उसके घर में तो आता अख़बार नहीं हैं ।

– शायर : प्रदिपकुमार साख़रे
+917359996358.

Views 10
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Pradipkumar Sackheray
Posts 8
Total Views 261
Pr@d!pkumar $ackheray (The Versatile @rtist) : - Writer/Poet/Lyricist, Mimicry Artist, Anchor, Singer & Painter. . .

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia