. . . और भी इक मेरी गज़ल

Pradipkumar Sackheray

रचनाकार- Pradipkumar Sackheray

विधा- गज़ल/गीतिका

झुठी – फ़रेबी तारिफ़ों से ख़ुश वो होने लगी ।
अंज़ाने , मुझसे शेरे – गज़ल वो पिरोने लगी ।

वफ़ा की सारी की सारी फ़सलें काटी उसने ,
फ़िर से बेवफ़ाई के बिज़ तो वो बोने लगी ।

मेरे ख़ुन का इल्ज़ाम कैसें आयें उस पर ?
ख़ुन से रंगी हथेली अश्कों से वो धोने लगी ।

कैसें याद दिलाये वो वादें , यादें , फ़रयादें ?
लगता हैं , दोबारा याददाश वो ख़ोने लगी ।

मुझे मारके , मेरी आँख़ें तो ख़ोल दी उसने ;
और ख़ुद सारी रात चैन से वो सोने लगी ।

गैरों पे तो बरसी प्यार की बारिश बनके ,
और मुझे ज़लते अश्कों से वो भिगोने लगी ।

उसने उसे दिल , मंज़िल , साहिल पे छोड़ा ;
और मज़धार में मेरी कश्ती वो ड़ुबोने लगी ।

– शायर : प्रदिपकुमार साख़रे
+917359996358.

Views 8
Sponsored
Author
Pradipkumar Sackheray
Posts 8
Total Views 257
Pr@d!pkumar $ackheray (The Versatile @rtist) : - Writer/Poet/Lyricist, Mimicry Artist, Anchor, Singer & Painter. . .
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia