ओ मेरे भारत—

कृष्ण मलिक अम्बाला

रचनाकार- कृष्ण मलिक अम्बाला

विधा- कविता

💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐
💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐
भारत माता से कुछ पूछती हुई मेरी पंक्तियाँ ।
मस्ती के साथ आनंद लेते हुए लीजिये इनका लुत्फ़

ओ मेरे भारत तेरा इतिहास अब बिखर गया ।
मन हुए काले लोगों के, चेहरा निखर गया ।

ओ मेरे भारत तेरे संस्कार न जाने किधर गए ।
जीन्स के चक्कर में दुपट्टे छाती से उतर गए।।

ओ मेरे भारत तेरा युवा न जाने क्यों सिकुड़ गया ।
क्यों नशे की जंजीरो में इतना जकड़ गया ।।

ओ मेरे भारत तेरे ग्रन्थ अब हो लुप्त गए ।
सब छोड़ कर तेरी महिमा , कैसे हो मुक्त गए ।।

ओ मेरे भारत पुरुष का कैसा हो रूप गया ।
बेरोजगारी का कीड़ा उनका खून चूस गया ।।

ओ मेरे भारत नारी का कैसा हो व्यवहार गया ।
उसके सपनों की आंधी में बिखर परिवार गया ।।

ओ मेरे भारत बच्चों का किधर बचपन गया ।
45 का जवान भी लगता जैसे पार पचपन गया ।।

ओ मेरे भारत बहनों का कहाँ प्यार गया ।
नाम को बस रह राखी का त्यौहार गया ।।

ओ मेरे भारत भईयों का खो रोब गया ।
बहनों के सीने जैसे ये खंजर खोब गया ।।

ओ मेरे भारत पिता बन अब रोबोट गया ।
लालच की दौड़ में फर्ज को दबोच गया ।।

ओ मेरे भारत इंग्लिश की रटना शुरू कर कौन गया ।
अच्छी खासी माता का पिघल मोम(mom) गया ।।

ओ मेरे भारत इस रटना का असर पिता पर भी वैध हुआ ।
बस तभी से बापू का ओहदा बढ़कर डैड (dead) हुआ ।।

ओ मेरे भारत आलस की आंधी में हर कोई हो कर्महीन गया ।
भूलकर सब सपने ऊँचे , विकारों के हो अधीन गया ।।

ओ मेरे भारत कर कुछ अब चमत्कार ।
लौटा दे वापिस आदर सत्कार।।
💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐
आपके कमेंट मेरे लिए रामबाण हैं जी ।
01.06.2016
© कृष्ण मलिक

Views 51
Sponsored
Author
कृष्ण मलिक अम्बाला
Posts 40
Total Views 3.1k
कृष्ण मलिक अम्बाला हरियाणा एवं कवि एवं शायर एवं भावी लेखक आनंदित एवं जागृत करने में प्रयासरत | 14 वर्ष की उम्र से ही लेखन का कार्य शुरू कर दिया | बचपन में हिंदी की अध्यापिका के ये कहने पर कि तुम भी कवि बन सकते हो , कविताओं के मैदान में कूद गये | अब तक आनन्द रस एवं जन जागृति की लगभग 200 रचनाएँ रच डाली हैं | पेशे से अध्यापक एवं ऑटोमोबाइल इंजिनियर हैं |
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
One comment