ओज- कविता (धधकती आग है दिल में)

डॉ तेज स्वरूप भारद्वाज

रचनाकार- डॉ तेज स्वरूप भारद्वाज

विधा- गीत

धधकती आग है दिल में
——————————-
धधकती आग है दिल में जो हर पल ही सुलगती है ,
जिन्दगी हो रही धूआँ कभी अंगार लगती है ।
जमाना कह रहा मुझसे बगावत करने लग जाऊँ ,
जमाने को बदलने की एक आरजू सी पलती है ।।
धधकती……
जमाने से हूँ मैं घायल और पत्थर न बरसाओ ,
पत्थरों की तरह निर्मम निर्दय मुझको न बनाओ ।
पत्थरों पर सुमन बरसाने की चाहत मचलती है ।।
धधकती ………..
िसी से है न गिला शिकवा मुकद्दर से हूँ मैं हारा ,
मेरी तकदीर ने कर दिया है मुझको ही बेचारा ।
चलता हूँ मैं उससे आगे मेरी तकदीर चलती है ।।
धधकती………….
नहीं फिर भी मैं बेबस नहीं बेचारा भी मैं हूँ ,
टूट – टूट कर मुकद्दर से न अब तक हारा भी मैं हूँ ।
मेरी हिम्मत मेरे हौसलों को हरपल ही बदलती है ।। धधकती ……..
:- डाँ तेज स्वरूप भारद्वाज -:

Views 72
Sponsored
Author
डॉ तेज स्वरूप भारद्वाज
Posts 34
Total Views 972
Assistant professor -:Shanti Niketan (B.Ed.,M.Ed.,BTC) College ,Tehra,Agra मैं बिशेषकर हास्य , व्यंग्य ,हास्य-व्यंग्य,आध्यात्म ,समसामयिक चुनौती भरी समस्याओं आदि पर कवितायें , गीत , गजल, दोहे लघु -कथा , कहानियाँ आदि लिखता हूँ ।
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia