ऐ माँ वो गुज़रा जमाना याद आता है

Badnaam Banarasi

रचनाकार- Badnaam Banarasi

विधा- कविता

ऐ माँ वो गुज़रा जमाना याद आता है,
तेरी गोद में बैठकर आँसू बहाना याद आता है।।
वो बचपन के दिन, वो शरारतें, वो शैतानियां मेरी,
वो पड़ोसी के घर के सामान तोड़ना,
वो पड़ोसी की शिकायत और तेरा मेरे कान मड़ोड़ना,
वो तेरा मुझे पीटना फिर खुद रोना,
वो रोते – रोते मेरे आंसुओं को पोंछना याद आता है।
ऐ माँ वो गुज़रा जमाना याद आता है,
तेरी गोद में बैठकर आँसू बहाना याद आता है।।

मैं जानता हूँ कि सर पे मेरे सदा तेरा हाथ है,
कोई हो ना हो तू सदा मेरे साथ है,
जब अकेला होता हूँ, तो जी करता है तेरी याद में खो जाऊँ,
मैं फिर से बच्चा हो जाऊंँ और तेरी गोद में सो जाऊंँ,
वो तेरा मेरे सर को सहलाना और मुझे सुलाना याद आता है।
ऐ माँ वो गुज़रा जमाना याद आता है,
तेरी गोद में बैठकर आँसू बहाना याद आता है।।

Sponsored
Views 16
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Badnaam Banarasi
Posts 5
Total Views 116
From - Banaras

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia