ऐ खुदा, सुन ले दुआऐं, ग़म का अब रोज़ा रहे

लोधी डॉ. आशा 'अदिति'

रचनाकार- लोधी डॉ. आशा 'अदिति'

विधा- गज़ल/गीतिका

जिंदगी में हर तरफ बस प्यार ही बिखरा रहे
ऐ खुदा, सुन ले दुआऐं, ग़म का अब रोज़ा रहे

जिंदगी की दौड़ में तो थक गया ख़स्ता बदन
अब बुढ़ापा आ गया पर दिल मेरा बच्चा रहे

गाँठ रिश्तों में पड़ीं है, दूर हैं रिश्तें यहाँ
जोड़ने रिश्तों को फिर भी एक तो धागा रहे

है कई अच्छाइयाँ उनमें तुझे दिखती नहीं
देखने को ऐब खुद के एक बस शीशा रहे

साजिशें कर कर के मुझको वो गिराते रात दिन
की बगावत, फिर बराबर का ही अब सौदा रहे

इक सबक दुनिया को देखो जब सिखाना भी पड़े
तन मेरा लोहा भले हो मन मेरा सोना रहे

और कितना ऐ खुदा मुझको सताएगा बता
जिंदगी रातें अमावस चाँद फिर आता रहे

लोधी डॉ. आशा 'अदिति'
भोपाल

Views 169
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
लोधी डॉ. आशा 'अदिति'
Posts 62
Total Views 9k
मध्यप्रदेश में सहायक संचालक के पद पर कार्यरत...आई आई टी रुड़की से पी एच डी की उपाधि प्राप्त...अपने आसपास जो देखती हूँ, जो महसूस करती हूँ उसे कलम के द्वारा अभिव्यक्त करने की कोशिश करती हूँ...पूर्व में 'अदिति कैलाश' उपनाम से भी विचारों की अभिव्यक्ति....

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia