ऐ खुदा जाने

Hansraj Suthar

रचनाकार- Hansraj Suthar

विधा- गज़ल/गीतिका

चंद खुशियो के बदले बेशुमार गम दिया है
ऐ खुदा जाने केसा ये सनम दिया है

एक आह को जाने कितना मरहम दिया है
ऐ खुदा जाने क्यों अब गहरा ज़ख्म दिया है

इश्क़ दिखती खुशि है , मगर हर गम दिया है
ऐ खुदा जाने क्यों जालिम इश्क़ को जन्म दिया है

ठोकरे राहो में मिली उसने सहारा हरदम दिया है
ऐ खुदा बदली ना राहे फिर भी क्यों फासला एक दम दिया है

चाहा हमने है उनको चाहत उसे अब नही हमारी
ऐ खुदा जाने वो होगी हमारी ये वहम दिया है

Views 12
Sponsored
Author
Hansraj Suthar
Posts 4
Total Views 71
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia