“एहसासों की पोटली”

सन्दीप कुमार 'भारतीय'

रचनाकार- सन्दीप कुमार 'भारतीय'

विधा- कविता

"एहसासों की पोटली"

*************
*************

लटका के कंधों पर
उम्मीदों के झोले
उनमे भरके
कुछ ख्वाब
कुछ फरमाइशें
कुछ शिकायतें
कुछ एहसास
कुछ विश्वास
चल देता हूँ रोज
एक नए सफ़र पर
होठों पर मुस्कान सजाये
कन्धों को ऊंचा उठाकर
लौटता हूँ
हाथ में लिए
एक छोटी सी पोटली
पीछे छुपाकर
और बिखेर देता हूँ
अचानक से खोलकर
एक मुस्कान
स्पंदित हो उठता है ह्रदय
सुनकर वो मीठी सी किलकारी
और पीछे छूट जाती हैं
सारी थकान
सारी परेशानियां
जब सुनता हूँ
म्मम्मम म्मम्मम
उम्ह उम्ह उम्ह्ह
कुछ ऐसी आवाजें
जीवंत हो उठती हैं आँखें
जब देखता हूँ उसके
छोटे छोटे लबों पर
बिना दांतों वाली मुस्कान
और देखता हूँ
नन्हे नन्हे हाथों को
मचलते हुए |

"सन्दीप कुमार"

Sponsored
Views 49
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
सन्दीप कुमार 'भारतीय'
Posts 63
Total Views 6.2k
3 साझा पुस्तकें प्रकाशित हुई हैं | दो हाइकू पुस्तक है "साझा नभ का कोना" तथा "साझा संग्रह - शत हाइकुकार - साल शताब्दी" तीसरी पुस्तक तांका सदोका आधारित है "कलरव" | समय समय पर पत्रिकाओं में रचनायें प्रकाशित होती रहती हैं |

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
2 comments