एक हलचल सी है

Sonika Mishra

रचनाकार- Sonika Mishra

विधा- गीत

हवाओं में भी, एक हलचल सी है ।
तुमसे मिले तो, आहट सी है ।।
खोकर भी जाना, पाकर भी जाना ।
कोई नहीं है, सबसे दिवाना ।।
हवाओं में भी, एक हलचल सी है ।

रहते तो थे हम, दिल में किसी के ।
कहते भी थे हम, आखों की नमी से ।।
कोई नहीं जो, साथ चलेगा ।
दो पल हसाया, तो रोना पड़ेगा ।।
हवाओं में भी, एक हलचल सी है ।

जीवन का तो, अंदाज यही है ।
लगता जो अपना, अपना नहीं है ।।
खोकर खुद में, जान गये है ।
हम है अकेले, मान गये हैं ।।
हवाओं में भी, एक हलचल सी है ।

सोनिका मिश्रा

Views 183
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Sonika Mishra
Posts 27
Total Views 4.3k
मेरे शब्द एक प्रहार हैं, न कोई जीत न कोई हार हैं | डूब गए तो सागर है, तैर लिया तो इतिहास हैं ||

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia