एक सुन्दर नव पुष्प को संबोधित – कविता

Ravindra K Kapoor

रचनाकार- Ravindra K Kapoor

विधा- कविता

कितनी बार,
मैंने तुम्हारी ओर देखा,
कितनी बार- मैंने तुम्हें स्पर्श की कोशिश की
हर बार, जब भी मैंने ऐसा किया,
मैं रोमांचित हो उठा,
तुम्हारे रंगों की सुंदरता से, और
तुम्हारी पंखुड़ियों के आकर्षण से,
ओ' इस वर्ष के अंतिम तरोताज़ा पुष्प, अब केवल
केवल अगला नया साल तुम्हें फिर , तुम्हारी लंबी निद्रा से फिर जगायेगा ,
जब तुम फिर हम पर, अपने आकर्षण का जादू चलाने आओगे
तब तक के लिए – तुम्हें अलविदा।
Ravindra K Kapoor

Views 34
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Ravindra K Kapoor
Posts 4
Total Views 146

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia