एक सवाल बनकर

Sonika Mishra

रचनाकार- Sonika Mishra

विधा- कविता

ऐसा न हो भीड़ में खो जाए हम
कुछ पल चले
और ठहर जाएं हम
बिखर न जाएं कही ख्वाब बनकर
जी रहे है हम
एक सवाल बनकर

शायद कुछ खास करने की तमन्ना है
शायद एक चाँद बनने की तमन्ना है
रह न जाए ये तम्मना खाक बनकर
जी रहे है हम
एक सवाल बनकर

छूट न जाए वक्त का साया कही
टूट न जाए उम्मीदों की कड़ी
बाह न जाए ये मुस्कान
एक जल प्रपात बनकर
जी रहे है हम
एक सवाल बनकर

– सोनिका मिश्रा

Views 186
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Sonika Mishra
Posts 26
Total Views 4.3k
मेरे शब्द एक प्रहार हैं, न कोई जीत न कोई हार हैं | डूब गए तो सागर है, तैर लिया तो इतिहास हैं ||

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia