एक महकती बेटी हो

Arvind Uniyal

रचनाकार- Arvind Uniyal

विधा- गज़ल/गीतिका

आधार छंद – लौकिक अनाम, 22 मात्राभार
———————–
फूलों जैसी एक महकती बेटी हो ।
चन्दा जैसी एक चमकती बेटी हो ।

स्वर्ग बनेगा निश्चित, जो घर में यारों ,
कोयल जैसी एक चहकती बेटी हो ।

दादा बच्चे बन जाते हैं जिस घर में ,
चिड़िया जैसी एक फ़ुदकती बेटी हो ।

लोरी गाती कब थकती बूढी दादी ,
जो गोदी में एक सुबकती बेटी हो ।

दुनिया के हर घर की सुन्दर बगिया में ,
गुड़िया जैसी एक मटकती बेटी हो ।

घर-आँगन सब नाच उठेगा यदि कोई ,
पायल पहने एक छमकती बेटी हो ।

खुशियों की बारात सदा ही आएगी ,
जिस घर यारों एक थिरकती बेटी हो ।

ईश्वर से मैं नित्य दुआ ये मांगूगा ,
सबके घर में एक दमकती बेटी हो ।

खुशहाली 'अनजान' वहां छा जायेगी ,
आँगन में जो एक ठुमकती बेटी हो ।

अरविन्द उनियाल, 'अनजान', उत्तराखंड ।

Sponsored
Views 155
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Arvind Uniyal
Posts 1
Total Views 155

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia