एक दोहा

DrMishr Sahaj

रचनाकार- DrMishr Sahaj

विधा- दोहे

अन्दर से बेशक हुआ,बिखरा- चकनाचूर.
चेहरे पर कम ना हुआ,पर पहला सा नूर.
@डॉ.रघुनाथ मिश्र 'सहज

Sponsored
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
DrMishr Sahaj
Posts 14
Total Views 218

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia