एक जवान की पीढ़ा

ज़ैद बलियावी

रचनाकार- ज़ैद बलियावी

विधा- कविता

काटा जो सर दुश्मन ने,
तो जीते थे हम शान से,,
अपनो से जो सिला मिला,
फिर जीना पड़ा अपमान से,,
जिनकी सुरच्छा को सीमा पर,
हम लड़ते अपनी जान पर,,
पड़ा तमाचा मेरे उन,
जीते-जागते अरमान पर,,
होली-ईद छोड़ी हमने,
जिनकी रक्षा के नाम पर,,
सारा मान छोड़ा उन्होंने,
लाकर के अपमान पर,,
मेरी मौत की खबरों पर,
शोक मनाते देश मे,,
न मिली मुझको हमदर्दी,
जीते जागते भेश मे,,

जय हिन्द,जय भारत

(((((ज़ैद बलियावी)))))

Sponsored
Views 46
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
ज़ैद बलियावी
Posts 20
Total Views 1.6k
नाम :- ज़ैद बलियावी पता :- ग्राम- बिठुआ, पोस्ट- बेल्थरा रोड, ज़िला- बलिया (उत्तर प्रदेश). लेखन :- ग़ज़ल, कविता , शायरी, गीत! शिक्षण:- एम.काम.

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia