एक कुण्डलिया छंद

सतीश तिवारी 'सरस'

रचनाकार- सतीश तिवारी 'सरस'

विधा- कुण्डलिया

वाह-वाह की भूख भी,होती बड़ी विचित्र।
मगर कभी कहते नहीं,जाने क्यों निज मित्र।।
जाने क्यों निज मित्र,दिखाते मुझे अँगूठा।
देते उसका साथ,जो दिल से पक्का-झूठा।।
कह सतीश कविराय,हुई कम उम्र चाह की।
नहीं देखता राह,ह्रदय निज वाह-वाह की।।
*सतीश तिवारी 'सरस',नरसिंहपुर

Views 9
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia