एक अजनबी हमसफर बनने वाला हे !

pratik jangid

रचनाकार- pratik jangid

विधा- कविता

कुछ पल का साथ अब हर पल का होने वाला हे !
देखते ही देखते एक अजनबी हमसफर बनने वाला हे !
छोडूगा न कभी साथ तेरा यह भी खुद से किया उसने ये वादा हे !
न कोई शिकवा न गिला न कोई और इरादा हे !
कुछ यादो और रिशतो से बनाया हमने ये नाता हे !
कुछ पल का साथ अब हर पल का होने वाला हे !
देखते ही देखते एक अजनबी अब हमसफर बनने वाला हे !
विश्वाश और प्यार क बल पर रची हमने यह लीला हे !
एक तू खुश एक में खुश बस यही जिंदगी का का मेला हे !
जिंदगी के सफ़र में अब एक हाथ मेरा और एक हाथ तेरा हे !
कुछ पल का साथ अब हर पल का होने वाला हे !
देखते ही देखते एक अजनबी अब हमसफर बनने वाला हे !

Views 23
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
pratik jangid
Posts 18
Total Views 335

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia