उलझे उलझे बाल

RAMESH SHARMA

रचनाकार- RAMESH SHARMA

विधा- कुण्डलिया

मैंने अपने हाथ पर,ज्यों ही रखा गुलाल !
याद किसी के आ गये, .गोरे गोरे गाल !
गोरे गोरे गाल , और वो होंठ गुलाबी !
उलझे उलझे बाल, नशीले नैन शराबी !
आयेंगे वो याद,नयन उसके फिर पैंने!
नही लगाया रंग,अगर जो अबके मैने! !
रमेश शर्मा..

Views 11
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
RAMESH SHARMA
Posts 149
Total Views 1.9k
अपने जीवन काल में, करो काम ये नेक ! जन्मदिवस पर स्वयं के,वृक्ष लगाओ एक !! रमेश शर्मा

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia