उर्मिला

Rita Yadav

रचनाकार- Rita Yadav

विधा- कविता

पलकन अश्रुवन,
धीमी गति धड़कन,

विरह व्यथा सहन कर तड़पन,
लक्ष्मण को विदा कर वन,

उर्मिला धूमिल कर निज मन ,
बैठ भवन में याद करे बिछड़न,

शेष दिन चौदह वर्ष मे कितने,
गिन दिन रैन बिताती,

अविरल प्रिय पथ ,अथक निहारत ,,
बैठ झरोखे से देखे उपवन ,
लक्ष्मण कही न पाती,

नहीं कोई तार , नहीं कोई पाती,
चौदह वर्ष यूं ही बिताती,,

रीता यादव

Views 45
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Rita Yadav
Posts 35
Total Views 1.3k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia