‘उनसे’ ज्यादा भुखमरे!

Neeraj Chauhan

रचनाकार- Neeraj Chauhan

विधा- कविता

मेरे देश की लोकतंत्रीय चक्की में
तुम घुन से लगे हो,
तुम्हारी बांछे खिल जाती हैं
जब आता है तुम्हारा
वेतन बढ़ोतरी का प्रस्ताव,
तब तुम्हारे चेहरों पर
नही होता तनाव
ना ही कोई मशक्कत करनी पड़ती हैं
तुम्हारे इस खोखले दिमाग को,
तुम्हारी आकाशभेदी हाँ से
गुंजायमान हो जाती है संसद की दीवारें
यहाँ तक की सभी दिशाए

लेकिन जैसे ही एक किसान
अपना गमछा कांधे पर डाले
जैसे ही आता हैं तुम्हारी चौखट पर,
तुम्हारी नानी मर जाती है
सकपका जाते हो तुम
तुम्हारे बड़े दिल को पहुचता हैं
गहरा आघात
जब सुनते हो उनकी
कर्जमाफी की बात
तुम्हारी जुबान को ताले लग जाते हैं

मुंह लटक जाते हैं तुम्हारे
लेकिन भूल जाते हो
की उन्ही का दिया तुम खाते हो
पाते हो वही वेतन जो
अपने खून से वह खेत में सींचता हैं
लेकिन व्यवस्था के आगे
अपना मुँह भीचता हैं

शर्म आनी चाहिए तुम्हें!
पर तुम तो बेशर्म हो
उनसे ज्यादा भुखमरे हो तुम!

– नीरज चौहान

Sponsored
Views 35
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Neeraj Chauhan
Posts 61
Total Views 7.6k
कॉर्पोरेट और हिंदी की जगज़ाहिर लड़ाई में एक छुपा हुआ लेखक हूँ। माँ हिंदी के प्रति मेरी गहरी निष्ठा हैं। जिसे आजीवन मैं निभाना चाहता हूँ।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia