“उनकी यादे”

ज़ैद बलियावी

रचनाकार- ज़ैद बलियावी

विधा- गज़ल/गीतिका

भूलती नही जिनकी यादे,
काश! मुझे ढूँढ़ती उनकी आँखे,,
मैं हर लम्हा उनके साथ होता,
याद आती है जिनकी बाते,,
वो सुबह,वो शाम,वो नए साल की राते,
कैसे भूल जाऊ मैं इतनी सारी बाते,,
जो सुनाऊ अपना दर्द ज़माने को,
वो समझते है इसे महज़ बाते,,
ये अक्षरो के आकार मुझे सताते है,
ग़ज़ल बनकर मेरे लबो पर आते है,,
जो सुनते है मेरे दर्द को ज़माने वाले,
वो भी वाह!वाह! के नारा लगते है,,
मेरे खुदा मुझे ऐसी दुहाई देदे,
ग़मो से मेरे मुझे जुदाई देदे,,
ऐसे ही अगर है मलतब की सारी दुनिया,
तो ऐसी दुनिया से अच्छा मुझे तन्हाई देदे,,
ये क़ुबूल नही तो वो भी बता दे,
फिर सुनले मेरी आखरी बाते,,
की भूलती नही जिनकी यादे,
काश!..मुझे ढूंढ़ती उनकी आँखें!

((((ज़ैद बलियावी))))

Views 59
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
ज़ैद बलियावी
Posts 19
Total Views 2.3k
नाम :- ज़ैद बलियावी पता :- ग्राम- बिठुआ, पोस्ट- बेल्थरा रोड, ज़िला- बलिया (उत्तर प्रदेश). लेखन :- ग़ज़ल, कविता , शायरी, गीत! शिक्षण:- एम.काम.

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia