उचकन ।

Satyendra kumar Upadhyay

रचनाकार- Satyendra kumar Upadhyay

विधा- लघु कथा

क्या ? हुआ रघु ! हॅसते हुए उसके मित्र श्यामू ने पूॅछा ही था कि रघु भी खिल-खिलाकर हॅसते हुए बोला ; भाई बस जरा सा ! साहेब को आज चिढ़ा दिया है तो वह थोड़ा उचक गये हैं । श्यामू बोला चिंता न करो मित्र तुम्हारा सवासेर मैं हूॅ न सॅभालने के लिए । दोनों ही साथ ही भर्ती हो विभाग के मुख्य मिस्त्री जो बन बैठे थे और भर्ती स्थान से ही रिटायर भी होना था , सारे नियम दीमकों के हवाले जो कर दिए थे इनलोगों ने ।
तभी उचके हुए और अपने ही आदेशों की धज्जियाॅ उड़ाने वाले रघु को बुलाया तो वह ; गिरगिट से भी जल्दी रंग बदलते हुए अपने मातहतों पर सारी गल्ती झोंकता चला गया था , साथ ही खुद के लिए लाचारी दिखा ! बस , अंग्रेज़ी में "साॅरी" बोलता चला गया । साहेब की उचकन कुछ कम हो गयी थी उसकी रंग बदलती शैली देख कि वरिष्ठ होकर कैसी सफाई से मातहतों पर उसकी झोंकाई देख ।
उसने विषैली मुस्कान फेरते हुए कहा साहेब जाऊँ अब ! सारा काम मैंने खत्म करवा दिया है । और मूक सहमति मिलते ही जाते-2 पुनः बोला कि साहेब ! सामान की आलमारी की चाबी जो कि उसी के जिम्मे थी एक नशेड़ी मातहत पर खोने का आरोप लगा !फुर्र हो गया । साहेब की अगली उचकन देखने के पहले ।
तभी उसका मित्र श्यामू आया बोला , साहेब आजकल थाने को बीस हजार रूपया दे किसी का भी मर्डर करा ! साफ बचा जा सकता है ।
यह सुन उचकन में बेइंतहा बढ़ोतरी देख वह भी चुपचाप निकल गया।और श्यामू भी जाकर रघु के साथ अगले चौराहे पर मजे से चाय की चुस्कियाॅ ले रहे थे ; इन्हीं उचकनों पर ! नियम जो विलुप्त प्रायः जो हो गये थे ।

बेहतरीन साहित्यिक पुस्तकें सिर्फ आपके लिए- यहाँ क्लिक करें

Views 6
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
Satyendra kumar Upadhyay
Posts 13
Total Views 45
short story writer.

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia