ईश्‍वर कहा बसता है ?

bharat gehlot

रचनाकार- bharat gehlot

विधा- कुण्डलिया

न वो मन्‍दिर में बसता है न मस्‍जिद न गुरुद्रारे में ,
वो जो रहबर है वो तो आदमी की अच्‍छाई में बसता है ,
न वो पत्‍थरो में बसता है न वो पहाडो में बसता है ,
वो जो यारब है इंसान की नेह मेंं बसता है,
न वो हवाओ मेंं बसता है न वो फि‍जाओ में बसता है ,
वो जो ईश्‍वर है वो तो कण-कण में बसता है ,

भरत कुमार गेहलोत
जालोर राजस्‍थान
सम्‍पर्क सुत्र 7742016184

बेहतरीन साहित्यिक पुस्तकें सिर्फ आपके लिए- यहाँ क्लिक करें

Views 23
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
bharat gehlot
Posts 17
Total Views 399

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia