ईश्‍वर कहा बसता है ?

bharat gehlot

रचनाकार- bharat gehlot

विधा- कुण्डलिया

न वो मन्‍दिर में बसता है न मस्‍जिद न गुरुद्रारे में ,
वो जो रहबर है वो तो आदमी की अच्‍छाई में बसता है ,
न वो पत्‍थरो में बसता है न वो पहाडो में बसता है ,
वो जो यारब है इंसान की नेह मेंं बसता है,
न वो हवाओ मेंं बसता है न वो फि‍जाओ में बसता है ,
वो जो ईश्‍वर है वो तो कण-कण में बसता है ,

भरत कुमार गेहलोत
जालोर राजस्‍थान
सम्‍पर्क सुत्र 7742016184

Views 21
Sponsored
Author
bharat gehlot
Posts 10
Total Views 225
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia