इस होली रंग लो मुझे, साजन अपने रंग

लोधी डॉ. आशा 'अदिति'

रचनाकार- लोधी डॉ. आशा 'अदिति'

विधा- दोहे

खुशियाँ लेकर आ गया, होली का त्यौहार
गाल रंगे गुलाल से, रंगों की बौछार

टेसू, सेमल खिल उठे, बजे बसन्ती राग
मस्ती, रंग, गुलाल से, देखो सजता फाग

देख गुलाबों की छटा, शरमाते हैं शूल
कितने रंग बिखेरते, कागज़ के भी फूल

पीली सरसों ने किया, स्वर्ण कनक मनुहार
नीली अलसी मिल हुआ, अजब धरा श्रृंगार

सभी होलिका पूजते, फागुन पूनम रात
कण्डों की होली जले, मानो अब ये बात

गले आज हम सब मिलें, भूल सभी टकराव
होलिका के संग जले, द्वेष बैर के भाव

लाल, गुलाबी, नीले, हरे, पिचकारी के रंग
भूल सभी कटुता चलो, होली खेले संग

महुआ है बौरा रहा, भांग नशे में चूर
रंग, अबीर, गुलाल से, मनः कलुष हो दूर

होली है की गूंज से, दिल में जगी उमंग
इस होली रंग लो मुझे, साजन अपने रंग

सब रंगों में देख लो, प्रेम रंग है खास
पिय रंग में रंग गई, मेरी इक इक श्वास

लोधी डॉ. आशा 'अदिति'
भोपाल

Views 103
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
लोधी डॉ. आशा 'अदिति'
Posts 57
Total Views 7.9k
मध्यप्रदेश में सहायक संचालक के पद पर कार्यरत...आई आई टी रुड़की से पी एच डी की उपाधि प्राप्त...अपने आसपास जो देखती हूँ, जो महसूस करती हूँ उसे कलम के द्वारा अभिव्यक्त करने की कोशिश करती हूँ...पूर्व में 'अदिति कैलाश' उपनाम से भी विचारों की अभिव्यक्ति....

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia