इस स्थावर जंगम जगत् का जो मूल तत्व( घनाक्षरी)

Jitendra Anand

रचनाकार- Jitendra Anand

विधा- घनाक्षरी

इस स्थावर जंगम जगत् का जो मूल तत्त्व,
बीज प्रधान सत्त्व, परब्रह्म निष्काम हैं ।
दुग्धामृत – दायिनी हैं जिनकी कृपा से गायें,
उन्हीं गोपाल को हम करते प्रणाम हैं ।।
— जितेंद्र कमल आनंद रामपुर
दिनॉक २८-४-१७

Sponsored
Views 3
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Jitendra Anand
Posts 150
Total Views 1k
हम जितेंद्र कमल आनंद को यह साहित्य पीडिया पसंद हैं , हमने इसलिए स्वरचित ११४ रचनाएँ पोस्ट कर दी हैं , यह अधिक से अधिक लोगों को पढने को मिले , आपका सहयोग चाहिए, धन्यवाद ----- जितेन्द्रकमल आनंद

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia