||इश्क़ का दर्द ||

Omendra Shukla

रचनाकार- Omendra Shukla

विधा- कविता

“तुम जब जब याद आओगे
हरदम मुझको तड़पाओगे
बसे हो जो तुम यादों में मेरे
हर लम्हा ख़ामोशी बढ़ाओगे ,
टूटे वादे ,रूठे किस्से
नए अरमान कौन सजाएगा
यादों की खाई में है पड़ा हुआ
फिर बसंत कौन बहायेगा ,
वो ख़ामोशी की लब्जो में
बाते नयनों में कैसे होंगी
टूटी जो ये प्रेम की धारा
फिर से शुरू कहा होंगी ,
विरह की यातनाये तेरी वो
पनघट की याद दिलाएंगी
सूखे पड़े उदधि में फिर से
आखों का जल भर जाएँगी ,
कब तक वीराना गुलशन होगा ये
कब तक दर्द से थर्रायेगा
होंगे फिर साथ कभी हम दोनों
वो वक्त नजर कब आएगा ,
बड़ी बेबशी छायी है आखों में
दर्द का सागर भरा है दिल में
कब तक चलेगा प्रेम का पहिया
जाने कब मिल जायेगा मंजिल में ||”

Views 7
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Omendra Shukla
Posts 60
Total Views 826
नाम- ओमेन्द्र कुमार शुक्ल पिता का नाम - श्री सुरेश चन्द्र शुक्ल जन्म तिथि - १५/०७/१९८७ जन्मस्थान - जिला-भदोही ,उत्तर प्रदेश वर्तमान पता - मुंबई,महाराष्ट्र शिक्षा - इंटरमीडिएट तक की पढाई मैंने अपने गांव के ही इण्टर कॉलेज से पूर्ण किया,तदनुसार मै इलाहाबाद विश्वविद्यालय से स्नातक की पढाई खत्म करने के बाद मै नौकरी के सिलसिले में मुंबई आया तथा पुणे के सिम्बायोसिस कॉलेज से पत्राचार के माध्यम से म.बी.ए. । निवास- मुंबई , महाराष्ट्र लेखन - कविता ,गजल ,हाइकू ,उपन्यास ,कहानी ,गीत । मो. न. -9702143477

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia