इजहार-ए-मुहब्बत

सन्दीप कुमार 'भारतीय'

रचनाकार- सन्दीप कुमार 'भारतीय'

विधा- कविता

कुछ हर्फ़ रखे हैं मैंने
चुन कर लिफ़ाफ़े में
जो आते थे जुबां तक
और रुक जाते थे
कहना चाहता था मैं
मेरे लबों में सिमटकर रह गए
हर रोज बटोरता था मैं
यहाँ वहां से बिखरे हर्फ़
और फिर बुनता था
एक तानाबाना
काटछाँट करता था लफ्जों की
एक कुशल दर्जी की तरह
ताकि बन सके खूबसूरत सा
एक नज्म में ढला लिबास
सुनकर जिसको
हो जाओ तुम मदहोश
हो के बेखबर जहां से
कह दो मेरे दिल की बात
तुम्हारी जुबां से निकले
आब-ऐ-हयात मेरे दिल का
मिल जाए सुकून मेरी रूह को
मिट जाए बंधन जिस्मों का
एक हो जाएँ दो रूहें
मैं और तुम से बन जाएँ हम
मै नहीं चाहता करना इन्तजार
तुम कहो और मै सुनूँ
खुद ही कह देना चाहता हूँ
" इश्क है मुझे तुमसे
बेइन्तहा मुहब्बत है मुझे
क्या तुम भी करती हो
प्यार मुझसे ।
अपनाओगी मुझे"

" सन्दीप कुमार "

Views 88
Sponsored
Author
सन्दीप कुमार 'भारतीय'
Posts 61
Total Views 5.4k
3 साझा पुस्तकें प्रकाशित हुई हैं | दो हाइकू पुस्तक है "साझा नभ का कोना" तथा "साझा संग्रह - शत हाइकुकार - साल शताब्दी" तीसरी पुस्तक तांका सदोका आधारित है "कलरव" | समय समय पर पत्रिकाओं में रचनायें प्रकाशित होती रहती हैं |
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia