इंसान

Neelam Sharma

रचनाकार- Neelam Sharma

विधा- कविता

इंसान
क्यों न रहा इंसान तू बता ए मानुष मनुष्य,
तू क्यों रहा न आदमी बता यह नर रहस्य l

एेसा हुआ क्या जो बना तू असुर और निशाचर,
है क्यों तू बनता जा रहा दनुज और निशिचर l

तू ही तो है सर्वश्रेष्ठ कृति खुदा -परमात्मा की
फिर क्यों मिटाता जा रहा तू पहचां इंसां की l

है हारता सुन वोही जो कभी लड़ता नहीं है
तू खुद ही इंसां रहने का प्रयास करता नहीं है l

नीलम शर्मा

Sponsored
Views 5
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Neelam Sharma
Posts 230
Total Views 2.3k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia