** इंसान हो तुम **

भूरचन्द जयपाल

रचनाकार- भूरचन्द जयपाल

विधा- गीत

प्रारम्भिक बोल
**********
कश्तियां यूं ही
डूबती रह जायेगी
होंसला है जिसके हाथ
वो पार सागर कर जायेगा
तर जायेगा बिन पतवार
********************
इंसान हो तुम
इंसान हो तुम
किनारे वही रह जायेंगे
मौजे कितना बुलायेगी
मांझी कब तक पुकारेगा
जीवन है चलने का नाम
***********
इंसान हो तुम
तुम इंसान हो
***********
मत घबरा इन उलझनों से
एक दिन हो जायेगा पार
यार सुन अब दास्तां ग़म
कब तक ठहर पायेगा
जिद ना कर रुकने की अब
जीवन क्या ठहर जायेगा
***********
इंसान हो तुम
तुम इंसान हो
****************
इक पहर थोड़ा ठहर
चल फिर मंजिल पायेगा
जो बिता उसको जाने दे
अब पछताये क्या हो पायेगा
है इंसान तूं ये समझ
कब तक तूं रुक पायेगा
******************
इंसान हो तुम
तुम इंसान हो
**********
जीतेगा इकदिन हार के
जीवन को यूं वार के
इंसान हो तुम
तुम इंसान हो
हां तुम इंसान हो ।।
👍मधुप बैरागी

Sponsored
Views 22
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
भूरचन्द जयपाल
Posts 384
Total Views 9.7k
मैं भूरचन्द जयपाल सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर (राजस्थान) अपने उपनाम - मधुप बैरागी के नाम से विभिन्न विधाओं में स्वरुचि अनुसार लेखन करता हूं, जैसे - गीत,कविता ,ग़ज़ल,मुक्तक ,भजन,आलेख,स्वच्छन्द या छंदमुक्त रचना आदि में विशेष रूचि, हिंदी, राजस्थानी एवं उर्दू मिश्रित हिन्दी तथा अन्य भाषा के शब्द संयोग से सृजित हिंदी रचनाएं 9928752150

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia