आ अब लौट चलें

Shri Bhagwan Bawwa

रचनाकार- Shri Bhagwan Bawwa

विधा- अन्य

नाटक
"आ अब लौट चलें"

राजू: रामू ! रामू ! जल्दी करो, स्कूल का टाइम हो गया है ।
रामू: नहीं यार, मैं आज से स्कूल नहीं जाऊंगा ।
राजू: स्कूल नहीं जाएगा? पर क्यों नहीं जाएगा?
रामू: मुझे कुछ समझ में नहीं आता। अंग्रेजी वाले सर तो रोज कहते हैं कि मेरे बस की पढ़ाई नहीं है ।
राजू: अरे बस, इतनी सी बात है वह तो तुम्हें इसलिए कहते हैं कि तुम और मन लगाकर पढ़ो ।
रामू:नहीं, मुझे सच में , इंग्लिश में कुछ समझ में नहीं आता ।
राजू: कोई बात नहीं थोड़ी और कोशिश करो , आ जाएगी और मैं हूं ना , मैं करूंगा तुम्हारी मदद । चलो, अब जल्दी करो… सुनो तो घंटी बज रही है , स्कूल की ।
रामू: नहीं यार, मैंने कह दिया ना । बस, मैं आज से स्कूल नहीं जाऊंगा ।
राजू: अच्छा ठीक है । मैं भी नहीं जाता स्कूल । लेकिन हम पूरा दिन बताएंगे कहां ? घर जाएंगे तो जाते ही डांट पड़ेगी ।
रामू: तू जा स्कूल, तुझे तो सब कुछ आता है और तू तो स्कूल का सबसे अच्छा बच्चा है ।और तुझे देर हो जाने के कारण सर भी नहीं डांटेंगे । तू तो सबका चहेता है ना । तू कुछ भी कहता है, सब मान लेते हैं ।
राजू: तू चल तो सही, मैं सर से कह दूंगा की मेरे पैर में मोच आ गई इसलिए देर हो गई । तुझे कोई कुछ नहीं कहेगा ।
रामू: देखा, तुम्हारी झूठ को भी सब मान लेते हैं । पिछले सोमवार को मैंने सर से कहा कि मेरे पेट में दर्द है तो सर ने कहा कि एक तो काम नहीं करते ऊपर से बहाना बनाते हो ।
राजू: तू चल, मैं सर को सब कुछ बता दूंगा ।
रामू: बस कह दिया ना, कह दिया। मैं स्कूल बिल्कुल नहीं जाऊंगा ।
और तुझे मेरे लिए रुकने की कोई जरूरत नहीं है ।
राजू: ठीक है तेरी मर्जी ।
रामू: चल स्कूल के पीछे वाली गली से निकल कर चलते हैं ,बाज़ार में ।
राजू: लेकिन बाजार में करोगे क्या?
रामू: घूमेंगे फिरेंगे ऐश करेंगे और क्या?
राजू: देख ,अभी भी चल स्कूल चलते हैं और हां सर से मैं कह दूंगा कि मेरे पर में मोच आने के कारण देर हो गई । वह पक्का तुझे नहीं धमकायेगे ।
जारी है…..

Views 1
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Shri Bhagwan Bawwa
Posts 19
Total Views 391

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia