“———————————————— आभा दिखे सुनहरी ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

रचनाकार- भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

विधा- गीत

घूँघट पट से झांक रही हो , नज़रें संग भेद भरी !
चेहरे पर रेखा चिन्ता की , छाई है अब गहरी !!

परदे के पीछे से चौकस , रहना कठिन बड़ा है !
आज चतुरता मौन लिये सी , बनी सजग अब प्रहरी !!

दामन उम्मीदों का थामे , आस लिये सहमी सी !
लक्ष्य साधने को आतुरतम , अँखियाँ जानो लहरी !!

सजधज मन भाती है ऐसी , नहीं आवरण चाहें !
रूप दमकता कुन्दन जैसा , आभा दिखे सुनहरी !!

बड़े ध्यान से कान लगाकर , आहट पा लेती हो !
भेद छुपाना लगे कठिन हैं , बड़ी सयानी ठहरी !!

कभी कनखियों से बतियाती , बोल धरे अधरों पर !
लदी नाज़ नखरों से ऐसी , मौन हुई स्वर लहरी !!

खूब लुभाना सीखा तुमने , सबके सब कायल हैं !
लुटने वाले अर्ज़ न करते , न कोउ चढ़े कचहरी !!!

बृज व्यास

Sponsored
Views 133
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
भगवती प्रसाद व्यास
Posts 122
Total Views 29.2k
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में रचनाओं का प्रकाशन ! एक लम्हा जिन्दगी , रूह की आवाज , खनक आखर की एवं कश्ती में चाँद साझा काव्य संग्रह प्रकाशित ! e काव्यसंग्रह "कहीं धूप कहीं छाँव" एवं "दस्तक समय की " प्रकाशित !

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia