** आदमी अर् गुंगळया में फर्क **

भूरचन्द जयपाल

रचनाकार- भूरचन्द जयपाल

विधा- लघु कथा

गुंगळया इण माटी रे डगळा ने गुड़कांवता ले जावे है । मानखो गुंगळया
री भांति माथे रे बोझ ने लुड़कांवता जावे है । पण फेर भी माथे रो बोझ हळको नी होवे । भांत-भांत रे उत्तरदायित्व रो भार इतरो ज्यादा हो जावे है कि उण ने उतारतो-उतारतो ख़ुद ही तर जावे है । पण माथे रो बोझ हळको नी होवे । एक दूसरे ने टोपी पहणावण री कोशिश रै माय खुद बिना टोपी रह जावे है । इण बात रो पतो नी चाले कि खुद कठे है अर् मानखो कठे जा पुग्यो है । पिछड़ता. पिछड़ता इतरो थक जावे है कि उठ न चालण लायक नी रह जावे है ।
गुंगळया री भांति जिंदगी रो बोझ ढोवतों-ढोवतों ख़ुद गुड़क जावे है । दुनियां कई दिना बाद उण ने भूल जावे है कि कोई हुतो बपड़ो । जीवण फिरूं पैलां री भांति चालण लाग जावे है ।
मिनख अर् गुंगळयो एक ही भांति जीवन री गाडी ने गुड़कांवता चाले है अर इण दरमियान खुद ही गुड़क जावे है । चालतो रह जावे है । लोगा ने वहम हो जावे है कि इण जीवन री गाडी ने मैं ही गुड़कावां हाँ, ओ वहम आपस में बैर करावे है, नही तो जिंदगी इतरी सांतरी चालती कि रुकणे नाम ही ना लेंवती पण मिनख माया रो भरमावडो थपेड़ा खांवतो-खांवतो मौत री गोद में सो जावे है,पण उण रो वहम नी मिठे कि इण जिंदगाणी री गाडी ने हूं ही चलाऊँ हूं ।
इण वहम रे रेवता ही आदमी-आदमी कोनी बण पावे है अर मिनखपणो भूल जावे है ।अर गुंगळया री भांति रेंगता-रेंगता ही इण संसार सूं विदा हो जावे है । बस आदमी अर गुंगळया रे जीवण में इतरो ही फर्क है ।।
👍मधुप बैरागी

Sponsored
Views 13
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
भूरचन्द जयपाल
Posts 383
Total Views 9.5k
मैं भूरचन्द जयपाल सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर (राजस्थान) अपने उपनाम - मधुप बैरागी के नाम से विभिन्न विधाओं में स्वरुचि अनुसार लेखन करता हूं, जैसे - गीत,कविता ,ग़ज़ल,मुक्तक ,भजन,आलेख,स्वच्छन्द या छंदमुक्त रचना आदि में विशेष रूचि, हिंदी, राजस्थानी एवं उर्दू मिश्रित हिन्दी तथा अन्य भाषा के शब्द संयोग से सृजित हिंदी रचनाएं 9928752150

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia