“आत्म-निर्भरता और दुनिया”

Mahender Singh

रचनाकार- Mahender Singh

विधा- कविता

कभी मैं भूल जाती हु
कभी उन्हें याद रहता है,
भूल-भलैया खेल में आखिर,
अजनबी ही साथी बन साथ निभाते है,

नज़र तो है जो परख लेती है,
पर अपने ही मुश्किलें बढ़ा देते है,

हमने सोचा बात कापी-किताबों तक है,
गद्दार चाकू-छुरों से वार कर बैठे….।।

मिले कोई डोर दिलों के संयोजन की,
अपना भी …………..उद्धार हो जाए,
महेंद्र परवाह नहीं सकता ,
दुनिया की :-
कोई दिवाना कहता है,
कोई पागल समझता है,
अपनी तो दुनिया खुद से शुरू होकर,
आत्म-निर्भरता …….पैदा करती है,

डॉ महेन्द्र सिंह खालेटिया,

Sponsored
Views 5
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Mahender Singh
Posts 70
Total Views 1.6k
पेशे से चिकित्सक,B.A.M.S(आयुर्वेदाचार्य)

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia