आज फ़िर तेरी याद ने

प्रतीक सिंह बापना

रचनाकार- प्रतीक सिंह बापना

विधा- कविता

आज फ़िर तेरी याद ने
वो खोया हुआ पल लौटा दिया
आज फ़िर तेरी याद ने
वो उलझा हुआ कल सुलझा दिया

याद है वो लम्हा मुझे
जब तुझसे पहली बार मिला
लफ्ज़ कहीं पर घूम से थे
पर चल पड़ा था बातों का सिलसिला
उन बातों ने आज फिर दिल बहला दिया
आज फ़िर तेरी याद ने
वो खोया हुआ पल लौटा दिया

बारिशों में चाय की चुस्कियां
सर्दी के कोहरे में घुली मस्तियाँ
हर मौसम को और खुशनुमा बनाती
तेरे गुलाबी गालों की सुर्खियां
तेरी आँखों की गहराई में फिर डूबा दिया
आज फिर तेरी याद ने
वो खोया हुआ पल लौटा दिया

आज तू साथ नहीं, मैं भी ग़मज़दा नहीं
किस्मत में ना लिखा था साथ हमारा
इस बात से भी मैं ख़फ़ा नहीं
तेरी कमी ने फिर भी
मेरी आँखों को फ़िर भीगा दिया
आज फ़िर तेरी याद ने
वो खोया हुआ पल लौटा दिया
आज फ़िर तेरी याद ने
वो उलझा हुआ कल सुलझा दिया

–प्रतीक

Sponsored
Views 100
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
प्रतीक सिंह बापना
Posts 39
Total Views 999
मैं उदयपुर, राजस्थान से एक नवोदित लेखक हूँ। मुझे हिंदी और अंग्रेजी में कविताएं लिखना पसंद है। मैं बिट्स पिलानी से स्नातकोत्तर हूँ और नॉएडा में एक निजी संसथान में कार्यरत हूँ।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia