आज शंकर जी मेरे घर आए हैं।

लक्ष्मी सिंह

रचनाकार- लक्ष्मी सिंह

विधा- कविता

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹
🌹
🌹आज शंकर जी मेरे घर आए हैं ।
संग पार्वती, गोद में गणपति लाए हैं ।।
🌹
त्रिनयन, मस्तक पर चंदा, हाथ त्रिशूल,
शिर गंग, डम – डम डमरू बजाए है ।।
🌹
नंदी पर सवार, पहने बाघम्बर छाल,
गले सर्प, तन पे विभूति लिपटाए हैं ।।
🌹
मुख निरखूँ, आरती उतारूँ, व्याकुल मन,
कुछ समझ न पाऊ, नैनन नीर बहाए हैं ।
🌹
चौका लगाऊ, भाँग पिसू, चंदन घिसू,
अक्षत चढ़ाऊ, आक – धतुर इन्हें भाए हैं।
🌹
औढ़रदानी, जग के स्वामी, भाग्य मेरी,
जो हँसी – हँसी भोग को खाए हैं ।
🌹
जग का पालनहारा, दुनिया का रखवाला,
इस कुटिया में आकर, निर्धन के भाग्य जगाए हैं ।
🌹
🌹आज शंकर जी मेरे घर आए हैं ।
संग पार्वती, गोद में गणपति लाए हैं ।।
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹
🌹लक्ष्मी सिंह 🌹

Views 138
Sponsored
Author
लक्ष्मी सिंह
Posts 112
Total Views 26.4k
MA B Ed (sanskrit) please visit my blog lakshmisingh.blogspot.com( Darpan) This is my collection of poems and stories. Thank you for your support.
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia